G20 : भारत की अध्यक्षता में मिलेट्स से वैश्विक खाद्य संकट का समाधान

Rama Posted on: 2023-03-19 14:02:00 Viewer: 37 Comments: 0 Country: India City: New Delhi

G20 : भारत की अध्यक्षता में मिलेट्स से वैश्विक खाद्य संकट का समाधान G20 : Millets under the chairmanship of India to solve the global food crisis

 

International News : पीएम मोदी ने नई दिल्ली में होने वाली ग्लोबल मिलेट्स (मोटा अनाज) कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन कर दिया है। इस मौके पर PM मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष 2023 पर एक डाक टिकट और सिक्के का अनावरण,बायर सेलर मीट और प्रदर्शनी का उद्घाटन भी किया है।
भारत की वर्तमान G20 अध्यक्षता में वैश्विक खाद्य संकट का मुद्दा बेहद प्रमुखता के साथ चर्चा का विषय बना हुआ है। सौभाग्य से भारत के प्रयासों से संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष घोषित किया गया है। इस साल भारत कि अध्यक्षता में G20 देशों की बैठक के दौरान मोटे अनाज के साथ वैश्विक खाद्य संकट का समाधान निकाला जा सकता है।

क्या है वर्तमान खाद्य संकट?

महामारी और युद्ध के कारण दुनिया भर में खाद्य की बढ़ती कीमतों के साथ मुद्रास्फीति में वृद्धि हुई है। 2022 की कमोडिटी मार्केट्स आउटलुक के अनुसार, युद्ध ने व्यापार, उत्पादन और खपत को बदल दिया है जिससे मूल्य वृद्धि हुई है और खाद्य असुरक्षा बढ़ गई है।
विश्व खाद्य कीमतों में साल दर साल 20.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। युद्ध ने खाद्य कीमतों को 40 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है और महामारी, जलवायु परिवर्तन का संयुक्त प्रभाव भूख और कुपोषण को कम करने के वैश्विक रुझानों को उलट रहा है।
पहले से ही सूखे और अकाल से प्रभावित क्षेत्रों में कीमतें बढ़ रही हैं और खाद्य संकट अपने चरम पर है। यहां तक ​​कि यूनाइटेड किंगडम (यूके) और संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) जैसे उच्च आय वाले खाद्य-सुरक्षित देशों में भी खाद्य असुरक्षा के कारण लागत मुद्रास्फीति का प्रभाव पड़ रहा है। स्थिति 2007-08 के विश्व खाद्य संकट के समान है जिसके कारण आर्थिक अस्थिरता, भोजन की कमी और मूल्य वृद्धि हुई। खाद्य संकट पर 2022 की वैश्विक रिपोर्ट में 193 मिलियन लोगों के साथ संघर्ष, आर्थिक झटके और मौसम की चरम स्थितियों के कारण खाद्य असुरक्षा का सामना करने वाली भूख का खतरनाक स्तर दिखाया गया है।
खाद्य सुरक्षा के लिए एक और खतरा बढ़ती जनसंख्या है, जिसकी वर्तमान 8 बिलियन से 2050 तक 9.8 बिलियन और 2100 तक 11.2 बिलियन तक पहुंचने का अनुमान है। खाद्य और कृषि संगठन (FAO) के अनुसार , ‘अत्यधिक जनसंख्या विश्व खाद्य आपूर्ति के लिए खतरा है’ और 2027 के आसपास भोजन समाप्त हो सकता है।
विश्व बैंक द्वारा 83 देशों में किए गए 2022 के रैपिड फोन सर्वेक्षण में पाया गया कि महामारी के दौरान घरों में कम कैलोरी का सेवन और पोषण से समझौता किया गया।
खाद्य असुरक्षा का बच्चों में स्वास्थ्य और संज्ञानात्मक विकास पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ता है। संकटों ने खाद्य उत्पादन को प्रभावित करने वाली खाद्य आपूर्ति श्रृंखला को बाधित कर दिया है और संसाधनों को दुर्लभ और महंगा बना दिया है।
भोजन की कमी, खराब शिशु आहार प्रथाओं, उच्च बचपन की बीमारियों और स्वच्छता और स्वच्छ पेयजल की कमी के कारण खाद्य संकट से पीड़ित देशों में बच्चों में कुपोषण अधिक है।
यूनिसेफ के अनुसार, संकटग्रस्त देशों में वैश्विक भूख हर मिनट एक बच्चे को गंभीर कुपोषण की ओर धकेल रही है। यूक्रेन संघर्ष से प्रेरित बढ़ती कीमतों और महामारी के साथ आर्थिक गिरावट के कारण बच्चों में गंभीर कुपोषण का विनाशकारी स्तर हो गया है।
यह स्पष्ट है कि दुनिया 2030 तक शून्य भुखमरी पर सतत विकास लक्ष्य 2 को प्राप्त करने के लिए ट्रैक से बाहर है, अनुमानित 840 मिलियन लोग 2030 तक भूख से प्रभावित होंगे। महामारी वैश्विक खाद्य प्रणालियों की संवेदनशीलता और कमी को बढ़ा रही है, जिससे प्रभावित हो रही है।
2020 से 40 मिलियन और लोगों को खाद्य असुरक्षा का सामना करना पड़ रहा है, यह चिंताजनक प्रवृत्ति है। खाद्य संकट से निपटने के लिए गरीबी और असमानता के निर्धारक निर्धारकों से निपटने की जरूरत है।

मिलेट्स के रूप में समाधान

खाद्य और कृषि संगठन (FAO) ने वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय मोटा अनाज या पोषक अनाज वर्ष (International Year of Millets) घोषित किया है। मोटे अनाज या ‘मिलेट्स’ (Millets) में विशेष पोषक गुण (प्रोटीन, आहार फाइबर, सूक्ष्म पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध) पाए जाते हैं और ये विशेष कृष्य या शस्य विशेषताएँ (जैसे सूखा प्रतिरोधी और अर्द्ध-शुष्क क्षेत्रों के लिये उपयुक्त होना) रखते हैं।
मिलेट्स’ छोटे बीज वाली विभिन्न फसलों के लिये संयुक्त रूप से प्रयुक्त शब्द है जिन्हें समशीतोष्ण, उपोष्ण और उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के शुष्क भूभागों में सीमांत भूमि पर अनाज फसलों के रूप में उगाया जाता है।
भारत में उपलब्ध कुछ सामान्य मोटे अनाजों में रागी, ज्वार, समा, बाजरा और वरिगा शामिल हैं। इन अनाजों के प्राचीनतम साक्ष्य सिंधु सभ्यता से प्राप्त हुए हैं और माना जाता है कि ये खाद्य के लिये उगाये गए प्रथम फसलों में से एक थे।
विश्व के 131 देशों में इनकी खेती की जाती है और ये एशिया एवं अफ्रीका में लगभग 60 करोड़ लोगों के लिये पारंपरिक आहार का अंग हैं। जब पूरी दुनिया शाकाहार, प्रोटीन बेस्ड डाइट और अन्य स्वास्थ्य अनुकूल आहार परिवर्तनों को धीरे-धीरे स्वीकार रही है, ऐसे समय में मिलेट्स का प्रचार और लोकप्रियता गरीब मिलेट्स उत्पादक देशों के लिए बहुत सारे व्यवसायों के विकल्प की संभावनाओं को जन्म देता है। बाजरा वर्ष के परिणामस्वरूप इस फसल का अधिक और बड़े पैमाने पर उत्पादन होगा, जिससे निर्यात में काफी वृद्धि होगी।

भारत और दुनिया में मिलेट्स

भारत में दो वर्गों के मोटे अनाज उगाए जाते हैं। प्रमुख मोटे अनाज (Major millets) में ज्वार (sorghum), बाजरा (pearl millet) और रागी (finger millet) शामिल हैं, जबकि गौण मोटे अनाज (Minor millets) में कंगनी (foxtail), कुटकी (little millet), कोदो (kodo), वरिगा/पुनर्वा (proso) और साँवा (barnyard millet) शामिल हैं।
भारत की ‘मिलेट क्रांति’ (Millet Revolution) मोटे अनाजों के स्वास्थ्य संबंधी और पर्यावरणीय लाभों के बारे में बढ़ती जागरूकता के साथ-साथ पारंपरिक कृषि अभ्यासों को पुनर्जीवित करने तथा छोटे पैमाने के किसानों को समर्थन देने के प्रयासों से प्रेरित है। इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार और सतत कृषि को बढ़ावा देने की देश की दोहरी चुनौतियों के समाधान के रूप में देखा जा रहा है।
भारत, नाइजीरिया और चीन दुनिया में मोटे अनाज के सबसे बड़े उत्पादक देश हैं, जो वैश्विक उत्पादन में संयुक्त रूप से 55% से अधिक की हिस्सेदारी रखते हैं। कई वर्षों से भारत मोटे अनाजों का सर्वप्रमुख उत्पादक बना रहा है।
इन अनाजों की उच्च प्रोटीन सामग्री उन्हें मुख्य रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोप और एशिया-प्रशांत में स्थित शाकाहारी आबादी के लिए आदर्श बनाती है।
इसके अलावा, महामारी ने बाजार को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है क्योंकि बहुत से लोग अपने आहार में बाजरा शामिल कर रहे हैं और जंक फूड से पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे बाजरा और उनके डेरिवेटिव को प्रतिरक्षा और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए स्थानांतरित कर रहे हैं। इसलिए, इन क्षेत्रों में बाजरा आधारित उत्पादों की मांग तेजी से बढ़ रही है, जिससे बाजरा वैश्विक स्तर पर बेहद लोकप्रिय हुआ है।

अपनी G20 अध्यक्षता में भारत द्वारा मिलेट्स के प्रसार हेतु प्रयास

मिलेट्स को लेकर यह साल भारत के लिए बहुत ही अहम माना जा रहा है, क्योंकि भारत 2023 में G20 की मेजबानी कर रहा है। सरकार ने मिलेट्स को G20 बैठकों का भी एक हिस्सा बनाया है।
मिलेट फेस्टिवल्स और इससे जुड़े कार्यक्रम देश के विभिन्न हिस्सों में आयोजित किए जा रहे हैं, जिनमें देश के भीतर और बाहर दोनों से लोगों की भागीदारी हो रही है। भारत के इस प्रयास के परिणामस्वरूप दुनिया भी मिलेट्स को जानने और अपनाने के लिए उत्सुक है।
भारत की G20 अध्यक्षता में मिलेट्स को शामिल किया जा रहा है जिससे विदेशी अतिथियों को इसके गुण और प्रभाव के बारे में जानने का मौका मिला है।

भारत द्वारा मोटे अनाज के लिए पहलें

भारत सरकार द्वारा मिलेट्स के विकास और प्रसार के लिए कई सारी पहलें और योजनाएं चलाई जा रही हैं। मूल्य समर्थन योजना (PSS) के माध्यम से मोटे अनाजों की खेती के लिये किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है। तो वहीं मूल्य-वर्धित उत्पादों के विकास द्वारा मोटे अनाजों की मांग और उपभोग को बढ़ाने के लिये मूल्य-वर्धित मिलेट-आधारित उत्पादों के उत्पादन को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
इसके अलावा सरकार ने मोटे अनाजों को सार्वजनिक वितरण प्रणाली में शामिल किया है ताकि इसे आम लोगों के लिये सुलभ और सस्ता बनाया जा सके। साथ ही सरकार जैविक मोटे अनाजों के उत्पादन और उपभोग को बढ़ाने के लिये मोटे अनाजों की जैविक खेती (Organic Farming) को भी बढ़ावा दे रही है।
कोविड-19 के दौरान आर्थिक मदद के हिस्से के रूप में, भारत सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) और आत्मनिर्भर भारत योजना (एएनबीएस) जैसी अतिरिक्त राष्ट्रव्यापी योजनाओं को लागू किया है।
पीएमजीकेएवाई के तहत, भारत सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (अंत्योदय अन्न योजना और प्राथमिकता वाले परिवारों) के तहत अप्रैल से नवंबर 2020 की अवधि के लिए और फिर मई से नवंबर 2021 की अवधि के लिए प्रत्यक्ष लाभ अंतरण के अंतर्गत शामिल किए गए लोगों सहित 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 80 करोड़ (800 मिलियन) लाभार्थियों के लिए प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम प्रति माह की दर से खाद्यान्न का मुफ्त आवंटन किया है
वर्ष 2O2O के दौरान, 3.22 करोड़ (32.2 मिलियन) मीट्रिक टन खाद्यान्न और वर्ष 2021 के दौरान, लगभग 3.28 करोड़ (32.8 मिलियन) मीट्रिक टन खाद्यान्न पीएमजीकेएवाई योजना के तहत लगभग 80 करोड़ (800 मिलियन) एनएफएसए लाभार्थी लोगों को मुफ्त आवंटित किया गया है।
भारत की अध्यक्षता में G20 से वैश्विक स्तर के खाद्य संकट का समाधान मिलेट्स से निकल सकता है। अपनी ओर से भारत ने इसकी शुरुआत कर दी है और दुनिया ने भी भारत के मार्गदर्शन में मिलेट्स को अपने खाद्य संकट से बाहर निकलने के प्रयास के रूप में शुरू कर दिया है जिससे सतत विकास और वैश्विक लक्ष्यों की ओर बढ़ने में बेहतर सहायता मिल रही है।

Also Read

  







Leave Your Comment!









Recent Comments!

No comments found...!