Trending Now

Singrauli News : ग्राम पंचायत रजनिया के खेखडा़ तालाब को 4 लाख 90 हजार की लागत से होगा जीर्णोद्धार का

Rama Posted on: 2024-06-15 10:15:00 Viewer: 108 Comments: 0 Country: India City: Singrauli

Singrauli News : ग्राम पंचायत रजनिया के खेखडा़ तालाब को 4 लाख 90 हजार की लागत से होगा जीर्णोद्धार का Singrauli News: Renovation work of Khekhada pond of Gram Panchayat Rajnia will be done at a cost of Rs 4 lakh 90 thousand.


सांसद, विधायक, कलेक्टर सहित जन प्रतिनिधियो ने किया तालाब में श्रमदान

Singrauli News : सिंगरौली। जल ही जीवन है के संदेश को चरितार्थ करने के लिए सभी को प्रयास करना चाहिए। जिससे मनुष्य के साथ सभी पशु-पक्षियों को भी पीने का पानी मुहैया हो एवं खेतों की सिंचाई हो सके। जिससे ग्रामीण जनों की जीवन सुगम और सुख-शांति से भरा हो। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए शासन द्वारा जल के संरक्षण तथा संवर्धन के लिए 16 जून तक जल गंगा संवर्धन अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून से लगातार संचालित है। सिंगरौली जिले में भी जल गंगा संवर्धन अभियान निरंतर संचालित किया जा रहा है। अभियान में ग्रामीण विकास विभाग, जन अभियान परिषद, स्वयंसेवी संस्थाओं तथा जन सहयोग से जल संरक्षण तथा संवर्धन के कार्य किए जा रहे हैं।

अभियान के तहत जनपद पंचायत देवसर की ग्राम पंचायत रजनिया में स्थित खेखडा़ तालाब के जीर्णोद्धार का कार्य 4 लाख 90 हजार की लागत से किया जायेगा। अभियान में श्रमदान करने पहुचे सांसद सीधी सिंगरौली डॉ. राजेश मिश्रा, विधायक धौहनी कुवर सिंह टेकाम कलेक्टर चन्द्रशेखर शुक्ला, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह नागेश,जनपद पंचायत देवसर के अध्यक्ष प्रणव पाठक के द्वारा तालाब जीर्णोद्धार के कार्य में श्रमदान किया गया। इस अवसर पर सांसद श्री मिश्रा ने कहा कि जल स्त्रोतों के संरक्षण, संवर्धन के लिए विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून से शुरू हुआ यह जल गंगा संवर्धन अभियान गंगा दशहरा 16 जून तक चलेगा। सभी मिलकर जल स्रोतों के संरक्षण और संवर्धन में योगदान दें।

उन्होंने कहा कि जल गंगा संवर्धन अभियान वर्तमान समय में बेहद जरूरी है। यह अभियान जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन के साथ ही पर्यावरण के लिए भी लाभदायी है। इसमें नदी, तालाब, कुएं, बावड़ी आदि जल संरचनाओं की सफाई कर, जीर्णोद्धार कर उपयोगी बनाया जा रहा है। जल संरचनाओं के तल में जो गाद जमा हो गई है। उसे निकालकर गहरीकरण भी किया जा रहा है। जिससे कि बारिश का अधिक जल इन सरंचनाओं में संग्रहित हो। उन्होंने कहा कि आज संग्रहण करने पर ही कल हमारा भविष्य सुरंक्षित रहेगा।

इस अवसर पर कलेक्टर श्री शुक्ला ने कहा कि जलाशय को अनमोल सम्पदा मानकर इसके संरक्षण, संवर्धन का प्रयास करें। जलाशय में किसी प्रकार का कचरा नहीं करे। जलाशय के जल को साफ बनाए रखने के लिये पालीथीन का उपयोग नहीं करें तथा जल संवर्धन के लिये पौधारोपण करें । जलाशय को जीवंत मानकर उसकी स्वच्छता एवं संरक्षण का पूर्ण रूप से ध्यान रखें। कलेक्टर ने श्रमदान कार्यक्रम को संबोधित करते कहा कि जल कि एक एक बूंद को सहेजने के लिए जल गंगा संवर्धन अभियान मील का पत्थर साबित होगा । जल गंगा संवर्धन अभियान अंतर्गत जल स्त्रोतों को अविरल बनाये जाने के उद्देश्य से जिले में स्थित नदी, तालाबों, कुओं, बावड़ी तथा अन्य जल स्त्रोतों के संरक्षण एवं पुर्नजीवन का कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है। विश्व पर्यावरण दिवस से शुरू इस अभियान को 16 जून तक जिले के सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवाहित होने वाली नदियों, तालाब एवं जल संरचनाओं के पुनर्जीवन व संरक्षण का कार्य स्थानीय, सामाजिक, अशासकीय संस्थाओं एवं जनभागीदारी के माध्यम से किया जा रहा है जिसमें सभी लोग उत्साह एवं उमंग के साथ सहभागिता निभा रहें है।

Also Read

  

Leave Your Comment!









Recent Comments!

No comments found...!


Singrauli Mirror AppSingrauli Mirror AppInstall